Ashwini Dev Pandey

Ashwini Dev Pandey

Sunday, September 5, 2010

परस्पर सदभाव व शांति बनाये रखने का हुवा समझौता

परस्पर सदभाव व शांति बनाये रखने का हुवा समझौता

१- मामला दुद्धी कोतवाली छेत्र का
२- कोतवाल का चार्ज शिशिर द्विवेदी को सुरेन्द्र कुमार त्रिपाठी हटे
३- जिलाधिकारी व पुलिस अधिछक के सद्प्रयाश से मामला हुवा शांत

बात है दुद्धी सोनभद्र की शुक्रवार को जन्मास्टमी का जुलूस नगर का भ्रमण करते हुवे रात करीब १० बजे जैसे ही मस्जिद के पास पहुंचा, सूत्रों की माने तो एक वर्ग द्वारा नारे बजी की जाने लगी जिसपर दूसरा पछ भी नारे बजी करने लगा दोनों वर्गों में धीरे धीरे झड़प बढ़ने लगी तो स्थानीय पुलिस मामले को शांत करना चाही लेकिन बात और बिगडती गयी , पुलिस ने हल्का बाल प्रयोग कर मामला शांत करना चाहा पर बात और बढ़ गयी और लोगो द्वारा बल प्रयोग के जवाब में पथराव बाजी सुरु हो गयी जिसमे दो सिपाहियो का सर फट गया कई लोग लाठी चार्ज से घायल हो गए, मौके की नजाकत देख पुलिस अधिछक डाक्टर प्रितिंदर सिंह ने रात में ही मौके पर पहोंच स्थिति को नियंत्रड में किया रात में पुलिस ने पूरे नगर में फ्लेग मार्च कर स्थिति को नियंत्रड में बनाये रखा , शनिवार की सुबह एक वर्ग द्वारा लाठी चार्ज के विरोध में बाजार को बंद किया गया और जन सैलाब पुरे नगर में भ्रमण करता हुआ कोतवाली गेट पर धरना दिया और प्रभारी निरिछक सुरेन्द्र त्रिपाठी को निलंबित करने की बात करने लगे जिस पर पुलिस अधिछक ने प्रभारी निरिछक सुरेन्द्र को हटाते हुवे कोतवाली का प्रभार शिशिर द्विवेदी को सौपा, जिलाधिकारी महोदय और पुलिस अधिछक ने दोनों गुटों की बैठक कर मामले को साम्प्रदाइक होने से बचाया .
शांति समिति की बैठक के बाद मस्जिद कमेटी ने सदर को बर्खास्त करते हुवे अबिदुल्ला को कार्यवाहक सदर नियुक्त किया, कमेटी ने मस्जिद से एनाउंस किया की मुस्लिम समुदाय इस अप्रिय घटना की निंदा करता है और लोगो से ये गुजारिस करता है की लोग आपस में भाई चारा बनाये रखे जिसका दुसरे पछ ने स्वागत किया और शांति बनाये रखने की अपील की.
नगर के बड़े बुजुर्गो की सूझ बुझ से यह घटना साम्प्रदाइक रूप नहीं ले पाई और नगर में एक बड़ी अप्रिय घटना होने से बच गई वही जिला प्रशासन ने यह स्वीकार किया की कही न कही से चूक हुई जिसकी वजह से यह अप्रिय घटना हुई .

No comments:

Post a Comment