Ashwini Dev Pandey

Ashwini Dev Pandey

Monday, November 22, 2010

ऐतिहासिक धरोहर

ऐतिहासिक धरोहर

विजयगढ़ दुर्ग

उत्तर प्रदेश के जनपद सोनभद्र में स्थित विजय गढ़ और अगोरी जैसे किले जो न सिर्फ पर्यटन बल्कि पुरातात्विक अध्यन दृष्टि से भी महत्त्व पूर्ण होने के साथ साथ सांस्कृतिक व एतिहासिक विरासत को अपने अंतर में संजोये होने के बाद भी शासन की उपेक्छा का दंश झेल रहे हैं. समय रहते अगर ध्यान न दिया गया तो वह दिन दूर नहीं जब समाज के सुनहरे आतीत के ये आईने- किले जो खंडहर बन चुके हैं धरासाई होकर अपना अतीत भी खो बैठेंगे I
सुप्रसिद्ध उपन्यास कार देवकी नंदन खत्री के उपन्यास पर आधारित नीरजा गुलेरी के निर्देशन पर बनी प्रख्यात टी.वी. धारावाहिक चंद्रकांता की लोकप्रियता के बाद जनपद सोनभद्र से २० किलो मीटर दूर जंगल पहाड़ो पर स्थित इस विजय गढ़ दुर्ग की लोकप्रियता भी बढ़ गई , पहाड़ पर सैकड़ो फिट ऊंचाई पर स्थित विजयगढ़ दुर्ग के निर्माण को लेकर कोई वैधानिक या सही जानकारी नहीं मिल पाई है पर कुछ विद्वानों
का मानना है की इस दुर्ग का निर्माण तीसरी शताब्दी में आदिवासी राजाओ द्वारा कराया गया था I
महाकवि वाड़भट्ट की विन्ध्याहवी वर्डन में सबर सेनापतियो का उल्लेख है.
महाकवि वाड़भट्ट का साधना स्थल भी सोन तट ही रहा है I
राजनयिक और अंग्रेजी शासन काल के दौरान वाराणसी के राजा चेतसिंह
विजयगढ़ दुर्ग से भी तमाम धन सम्पदा लेकर ग्वालियर की तरफ प्रस्थान किये थे,

शेरशाह शूरी का अधिकार भी इस विजयगढ़ दुर्ग पर रहा है I
प्रतिवर्ष यहाँ मीराशाह बाबा का उर्ष लगता है जिसमे हजारो की संख्या में हिन्दू और मुस्लिम भाई आते हैं और परस्पर सदभाव से
इस उर्स मेले का आयोजन करते हैं I वरिस्ट साहित्यकार देव कुमार मिश्र ने अपनी पुस्तक सोन की माटी का रंग
में विजयगढ़ दुर्ग पर संत सैयद जैनुल आब्द्दीन की मजार होने के सम्बन्ध में उल्लेख किया गया है I श्री मिश्र ने लिखा है कि संत सैयद जैनुल आब्द्दीन शेरशाह शूरी के समय में थे और इनकी कृपा से ही बिना खून बहाए ही शेरशाह शूरी ने किले पर कब्ज़ा कर लिया था I

प्रतिवर्ष हजारो की तादात में शिव भक्त विजयगढ़ दुर्ग पर स्थित राम सरोवर तालाब से जल लेकर लगभग ६० किलोमीटर दूर स्थित शिवद्वार में भागवान शिव का जलाभिषेक करते है, जंगलो और पहाड़ो पर स्थित सैकड़ो फिट की उचाई पर स्थित इस सरोवर का पानी कभी कम नहीं होता है यह भी एक चमत्कार ही है जबकि इस पहाड़ के निचे उतरते ही यहाँ के स्थानीय लोगो को पेय जल के संकट का सामना
करना पड़ता है I
आदिवासी समाज के सुनहरे अतीत
का आइना अब खँडहर में परवर्तित होता जा रहा है पहाड़ पर बने इस दुर्ग को देखा जाये तो वास्तु कला का अद्वितीय उदाहरण देखने को मिलता है I
इस दुर्ग को समुद्रगुप्त ने चौथी सदी में जिस वन राज्य की स्थापना की थी उससे जोड़ कर भी
देखा जाता है I
तमाम विजयगढ़ और अगोरी किले के ऐसे
अनसुलझे सवाल हैं जो खंडहर में तब्दील होते जा रहे हैं I

विजयगढ़ दुर्ग पर बने राम सागर तालाब के अथाह जल सागर, इन किलो के निर्माण,
शिल्प कल खंड जानकारी के साथ, इसके वैज्ञानिक अध्यन के साथ पुरातात्विक व
वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता को भी नजर अंदाज किया जाता रहा है I
विजयगढ़ व अगोरी जैसे किले तमाम विरासत को अपने अंतर में संजोये
रखने के बाद भी शासन व प्रशासन के उपेक्छाओ का दंश झेल रहा है, शीघ्र
ही यदि इसपर ध्यान न दिया गया तो वह दिन दूर नहीं कि ये ऐतिहासिक
विरासत केवल इतिहास के पन्नो में ही देखने को मिलेंगे .....



Thursday, November 18, 2010

खतरे में सोनभद्र के वन्य जीव




खतरे में सोनभद्र के वन्य जीव
सोनभद्र के जंगल से सटे एक इलाके में इन दिनों जंगली भालू के आतंक से ग्रामीणों में दहशत है , पिछले दिनों इस भालू ने एक लड़की को गंभीर रूप से घायल कर दिया ग्रामीणों का कहना है कि अक्सर जंगली जानवर अपना रुख गाँव की तरफ करते हैं लेकिन वन विभाग इनकी सुरक्षा के लिए कोई उपाय नहीं करता , कुछ दिनों पहले एक भालू अपने २ बच्चो के साथ महुअरिया जंगल से मराची गाँव कि तरफ आगये थे जिसमे भालू का एक बच्चा कुवे में गिर गया वन विभाग कि तरफ से भालू के बच्चे को तो कुवे से निकाल लिया गया लेकिन इनको जंगल का रास्ता न दिखा कर गाँव के आस पास ही छोड़ दिया गया जिससे ये भालू अभी भी गाँव के इर्द गिर्द देखे जा रहे हैं, दूसरी तरफ वन विभाग का कहना है कि जंगल में भोजन की कमी हो जाने के कारण जंगली जानवर गाँव की तरफ आ जाते हैं, वन विभाग के लोग ग्रामीणों को उनसे सावधान रहने के हिदायत दे रहे हैं, इसी तरह कि एक दूसरी घटना आज रात देखने को मिली जब एक लकडबग्घा जंगल से गाँव कि तरफ आ गया और सड़क पर उसकी लॉस लावारिस हालत में मिली . बाद में वन विभाग के रेंजेर ने बताया कि भोजन कि तलाश में यह इधर आया था और किसी वाहन की चपेट में आकर उसकी मौत हो गई .
इस के आलावा एक हाथी भी इन दिनों सोनभद्र के चोपन ,हथिनाला इलाके में देखा गया है बताया जाता है कि यह हाथी अपने झुण्ड से बिछुड़ कर छत्तीसगढ़ के जंगलो के रास्ते सोनभद्र में आ गया है पिछले दिनों इसने बभनी इलाके में इसने ग्रामीणों के कई घरो को तोड़ -फोड़ कर तबाही मचाई थी . वन विभाग इसे पकड़ने में अभी तक नाकाम है जब कि यह हाथी अभी भी सोनभद्र के अलग अलग गाँव में देखा जा रहा है,
पहली नजर में ग्रामीण इन जंगली जानवरों को ही दोषी मान कर इनकी हत्या को उतारू हो जाते है . जब कि इनके जंगलो से आबादी के इलाके में आने में इन निरीह जानवरों का कोई दोष नही है . वन विभाग लगातार वन भूमि के बढ़ने का दावा करता है लेकिन वास्तविकता यह है कि जंगलो की लगातर कटाई और पिछले ५ सालो से सूखे की स्थिति बने रहने से वन भूमि लगातार कम होती जा रही है .साथ ही साथ जंगलो में लोगो कि दखलंदाजी भी बढती जा रही है . वन विभाग और अन्य तमाम संगठन इन वन्य जीवो को बचने में नाकाम साबित हो रहे है .सोनभद्र में वन्य जीव बेमौत मारे जा रहे है. कहा है वन्य जीव संरक्षण के दावे करने वाले तमाम लोग और सरकारी विभाग ????
कहा है टी वी चेनलो पर पर्यावरण और बाघ बचाओ का नारा देने वाले शहरी लोग . जो बाघ कि फोटो छपी टी शर्ट पहन कर बाघ बचाने की अपील करते है . बाघ के आलावा भी अन्य निरीह जंगली जानवर है जो ख़त्म होने कि कगार पर है .इन्हें कौन बचाएगा ????
अगर हम सोनभद्र के प्रमुख स्थानोंपर एक नजर डाले तो हम पते है की यह के अधिकतर जगहों के नाम जानवरों और पशुओ से जुड़े है . यह तो सभी जानते है की जंगल और उनमे रहने वाले आदिवासिओ की संख्या को देखे तो सोनभद्र में इनका घनत्व उ.प्र में सबसे अधिक रहा है .लेकिन हाल के वर्सो में तस्वीर बहुत बदल चुकी है .जंगल कम से कमतर होते जा रहे है और वन विभाग कागजो पर ही वृक्षारोपड़ के आकडे पुरे करता रहा है . जो स्थान जानवरों के नमो से जाने जाते थे जैसे की हाथीनाला, तेंदू, गायघाट, बग्घानाला , सूअरसोत , हिरनखुरी अब केवल नाम के ही रह गये है. जानवर तो अब नदारद ही है .इसका कारण मनुष्यों की जंगलो में दखलंदाजी बढ़ते जाना है ,और जानवरों की जगह की कमी होना तो लाजमी ही है . लेकिन इस ओर किसी का ध्यान ही नही है .प्रशासन को आँख और कान मूंदकर यहाँ के प्राकृतिक संसाधनों के अंधाधुन्द दोहन में जुटा है होश तो तब आएगा जब यह बेजुबान जानवर भी नक्सलियो की तरह हिंशा पर उतारू हो जायेगा . और स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाएगी .
लेकिन अफ़सोस बेजुबान जानवर अपना प्रतिरोध
संगठित
रूप से नही दिखा सकते . हाँ आने वाले सालो में यह जरूर होगा की अब हाथी , लकड़बग्घे और सियार जैसे जानवर जो अब भी सडको पर दिख जाते है विलुप्त हो जायेगे और आने वाली पीढ़िया केवल सुना करेगी की सोनभद्र में भी कभी ये जानवर पाए जाते थे .केवल डिसकवरी जैसे चैनल में ही उनकी तस्वीर देखने को मिलेगी .

Monday, November 15, 2010

बड़ा हादसा






बड़ा हादसा
सोनभद्र के वाराणसी शक्तिनगर मार्ग पर (किलर रोड) के चोपन थाना छेत्र के डाला इलाके में एक सड़क हादसे में ट्रक के पलट जाने से ट्रक पर सवार सात बच्चो और एक युवती समेत आठ लोगो कि मौत हो गयी जबकि लगभग ४० लोग घायल हो गए इस घायलों में लगभग १ दर्जन लोगो कि स्थिति नाजुक बनी हुई है, मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी द्वारा मृतको के परिजनों को ५०-५० हजार रूपये मुख्या मंत्री रहत कोस से दिए जाने कि बात कही और घायलों के समुचित इलाज के लीए कहा
सोमवार को सोनभद्र में किलर रोड नाम से मशहूर वाराणसी शक्ति नगर मार्ग पर चोपन थाना छेत्र के डाला इलाके में कोयले से लदी ट्रक पलट गई इस ट्रक में लगभग साठ कि संख्या में मजदुर बैठे थे ये मजदुर तिल्गुडवा से राबर्ट्सगंज कोतवाली छेत्र के तेंदू गाँव में धान कि कटाई करने के लिए जा रहे थे , सड़क दुर्घटना के बाद पुलिस मौके पर पहुँच कर घायलों को प्राथमिक उपचार के लीए स्वास्थ्य केंद्र चोपन में भर्ति कराया इस ट्रक में लगभग साठ कि संख्या में मजदुर बैठे थे ये मजदुर तिल्गुडवा से राबर्ट्सगंज कोतवाली छेत्र के तेंदू गाँव में धान कि कटाई करने के लिए जा रहे थे.

Saturday, November 13, 2010

कौन किसे सिखाये







कौन किसे सिखाये

(यातायात माह )

नवम्बर का महीना यातायात का महीना है .....पुलिस यातायात के नियम और कानून जनता को बताती है लोगों को जागरूक करती है ....ताकि लोग गाड़ियों को ठीक ढंग से चलायें जिससे होने वाली दुर्घटना से बच सके .......पुलिस ने ये सारी कवायद को पूरा भी किया ......मगर कैसे?आईये हम आपको दिखाते है.....
जनपद सोनभद्र में यातायात माह के दौरान पुलिस ने एक समारोह के माध्यम से लोगो को यातायात के नियमों के बारे में जागरूक कर रही है ....... तैयारी एक जलसे के जैसा ....मुख्य अतिथि सोनभद्र के पुलिस कप्तान डॉ.प्रितिंदर सिंह और जिलाधिकारी पन्धारी यादव और भी जनपद के बरिष्ठ अधिकारी ....समारोह में शामिल हुए उन्होंने लोगो को जागरूक भी किया .....लेकिन खुद और अपनी पुलिस को जागरूकता का पाठ नहीं पढ़ा पाए........समारोह में जागरूकता के नाम पर लगे पोस्टर(जिस पर लिखा है "(हमारा सुरक्षा आपकी दायित्व ") पर लिखा लिटरेचर और मात्रा कि बनावट से आप खुद ही अंदाज़ा लगा सकते है कि यातायात के नाम पर पुलिस इस मौके पर क्या बताना चाह रही है .......इस घटना ने एक बात तो साफ़ कर ही दिया कि जागरूकता कि ज्यादा जरूरत पुलिस को है पहले वो खुद जागरूक हो तब कही जाकर लोगो को जागरूक करे ....सबसे मजे कि बात तो ये है कि पूरा समारोह ख़त्म हो गया लेकिन किसी भी तथाकथित जिम्मेदार पुलिस अधिकारी कि नज़र इस बैनर पर नहीं गई.....पुलिस कि इस लापरवाही से यातायात माह जैसे महत्वपूर्ण योजना कि धज्जियाँ उड़ गई है .रैली में सामिल हुवे बच्चो से बैनर के बारे में बात करने पर बच्चो ने कहा कि पहले पुलिस अपने आप को सुधारे तो जनता खुद सुधर जाएगी

Wednesday, September 8, 2010

चीखता चिल्लाता सोनभद्र - क्या मेरा यही हक़ था ?

चीखता चिल्लाता सोनभद्र - क्या मेरा यही हक़ था ?
भय भूख भ्रस्टाचार के गठजोड़ में फंशा सोनभद्र

मै सोनभद्र हूँ , मेरे जन्म को लगभग २२ वर्ष पूरे हो गए अर्थात मै जवान हो गया हूँ जब भी मै अपनी पिछली जिन्दगी की तरफ देखता हूँ तो बड़ा आस्चर्य होता है जब इस दीन हीन अवस्था में मुझे रखना था तो आखिर मुझे जन्म ही क्यूँ दिया गया इससे तो अच्छा होता की प्रसव काल में ही मुझे मार दिया जाता परन्तु अब तो मै इन सारी बाधाओ को पार कर अपनी युवावस्था में प्रवेश कर गया हूँ, अब मै अपने अत्याचारियो से लड़ सकता हूँ , अब उन लोगो से सवाल पूछ सकता हूँ जिन्होंने शैशवावस्था में जम कर मुझे लूटा और उस लूट के बदले मुझे क्या दिया ? बस रोते शिशकते सोनभद्र की यही कहानी नहीं है यह तो बानगी मात्र है अब सोनभद्र भी यही पूछ रहा है अपने हाकिमो से कि क्या यही मेरा हक़ है ? आप सब को पाता है कि १९८९ में मिर्जापुर जनपद को तोडकर उसके दछिनी हिस्से में जो प्राकृतिक संसाधनों जंगल व पहाड़ो से परिपूर्ण हिस्सा था उसमे सोनभद्र का गठन किया गया जिले के निर्माण के समय तत्कालीन कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री नारायण दत्त त्रिपाठी ने कहा था कि यह जनपद प्रदेश व देश के लीए रोल माडल बनेगा क्यूँ कि यहाँ मौजूद संसाधनों का प्रबंध कर सरकार यहाँ के गरीब व आदिवाशियो के जीवन सुधार हेतु महत्त्वपूर्ण कदम उठाएगी जिससे यहाँ की भूख व गरीबी, अशिछा अराजकता , भ्रष्टाचार शोषण इतिहास में लिखी बाते ही साबित होंगी .
परन्तु आज लगभग २२ वर्ष जवान होते सोनभद्र पर विचार करने पर ऐसा प्रतीत होता है कि तत्कालीन मुख्यामंत्री द्वारा अतीत में देखा गया एक सपना था जो स्वएम एक इतिहास बन चूका है तथा सोनभद्र गहन अन्धकार में डूबा भ्रस्टाचार कि उच्चतम पायदान पर बैठा एक ऐसे भयावह सच से हम सब को रूबरू करा रहा है जिसकी तरफ देखने का साहस शायद ही कोई संवेदनशील ब्यक्ति कर पाए परन्तु इस सच को देखने के लीए हम सब मजबूर हैं और आज आप को भी अपने नजरिये से देखने का आग्रह भी कर रहे हैं . क्या आप सोच सकते हैं जो जनपद पूरे प्रदेश को अधिकतम राजस्व प्रदान करता है वहा कि ७५% जनता को पीने के लीए पानी तक नहीं मिल पा रहा , आप ऐसा मत सोचिये कि सरकार इसे दूर करने के लीए प्रयास नहीं करती वह तो इतने बड़े- बड़े पैकेज इस जनपद के विकास योजनाओ के लीए भेजती है कि यदि उस पैसे का पच्चास प्रतिसत भी यहाँ के जमीन पर खर्च कर दिया जाये तो यह जनपद स्वर्ग बन गया होता परन्तु ऐसा नहीं हुआ शायद यहाँ के अधिकारियो और नेताओ के गठजोड़ ने भ्रस्टाचार कि ऐसी मजबूत कड़ी बना ली है कि इनकी पूरी कोशिश रहती है कि विकाश योजनाओ का पूरा पैसा ही इन्ही लोगो कि जेब में चला जाये , यदि ऐसा नहीं होता तो पिछले दो वर्षो में राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत इस जनपद में जितने भी चेकडेम बने हैं यदि आप खुली आंख से देख लेंगे तो कहेंगे यह क्या है ? एकाध बानगी आप के सामने रखते हैं कुछ चेकडेम जिनकी लम्बाई ५ या ६ मीटर ही होगी उसे बनाने के लीए यहाँ के अधिकारिओ ने यहाँ ९८ लाख रुपये तक खर्च कर दिए हैं यहाँ आप सोच सकते हैं कि इतने रुपये में इतना सीमेंट मिलेगा कि केवल सीमेंट से ही इससे बड़ा चेकडेम बनवाया जा सकता है , यहाँ ऐसा मस्टरोल बनता है जो आम आदमी जिस तारीख को ग्राम सभा में कार्य करता है वही आदमी उसी दिन छेत्र पंचायत में कार्य करता है तथा वहि आदमी उसी दिन यदि गहनता से जाँच कि जाये तो जिला पंचायत में काम करता मिल जायेगा . यह हम नहीं सोनभद्र के आफिसो में रखी मस्टरोल की कापिया कह रही हैं , पिछले महीने जनपद दौरे पर आये राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के केंद्रीय सदस्य संजय दीछित ने जनपद में हुवे कार्यो के भौतिक सत्यापन के बाद जो रिपोर्ट केंद्रीय ग्रामीण मंत्रालय को सौपी है उसमे उन्होंने उल्लेख किया है लगभग ५०० चेकडेम सोनभद्र में कागजो पर ही बना दिए गए और उसके बनाने में आये खर्च जो २ से ५ अरब रुपये के बीच है सोनभद्र के अफसर व राजनितिक लोग व अन्य कुछ दबाव समूहों कि जेबों में चले गए हैं , संजय दीछित ने सोनभद्र में गबन किये गए इस विकास के धन के रिकवरी करने के लीए भी केन्द्रीय ग्रामीण मंत्रालय से संस्तुति कि है . ऐसे अब आप खुद ही सोच सकते हैं भ्रष्टाचार अपने किस रूप में हमारे सामने है - यह बात रही विकाश कि .
अब हम आपको उस छेत्र से रूबरू करवाते हैं जो सोनभद्र का दिल कहा जाता है, यह है खनन छेत्र जो बालू व क्रशर रूप में यहाँ देखने को मिलता है, पर इस छेत्र में भ्रष्टाचार कि अपनी ही कहानी है - वैध अवैध खनन, आराछित वन छेत्रो तक में खनन पर्यावरण सुरक्छा के मनको के अनदेखी की वो कहानी है जिसे देख कर दिल दहल जाये और ये सोनभद्र का कलेजा ही है जो इसे बर्दास्त कर रहा है , इस पुरे छेत्र को पर्यावरण प्रदुषण का साम्राज्य तक कहा जाता है , इसे कौन रोकेगा ? रुकेगा भी या नहीं कहा तक चलेगा यह अंतहीन सिलसिला . ऐसे तमाम सवाल हैं जो दिल में कैद हैं .
सोनभद्र को उर्जांचल की राजधानी भी कहा जाता है यहाँ लगभग ११ हजार मेगावाट बिजली का उत्पादन भी किया जाता है पर सोनभद्र की राते अँधेरे में ही कटती हैं किसी ने सच ही कहा है चिराग तले अँधेरा , प्रदेश समेत अन्य राज्यों को रौशनी देने वाले जनपद सोनभद्र के लोगो के लीए बिजली ही नहीं है .
भूख, गरीबी, अशिछा, अराजकता, भ्रष्टाचार, नक्सलवाद के साथ अनगिनत समस्याओ के आगोश में चीखता चिल्लाता बेबस लाचार सोनभद्र अपनी किस्मत पर आंसू बहाते हुवे हर उस आदमी से एक ही सवाल कर रहा है क्या मेरा यही हक़ था ? क्यूँ मेरे साथ ये हो रहा है .



ब्रजेश पाठक / अश्विनी देव पाण्डेय

--


Sunday, September 5, 2010

परस्पर सदभाव व शांति बनाये रखने का हुवा समझौता

परस्पर सदभाव व शांति बनाये रखने का हुवा समझौता

१- मामला दुद्धी कोतवाली छेत्र का
२- कोतवाल का चार्ज शिशिर द्विवेदी को सुरेन्द्र कुमार त्रिपाठी हटे
३- जिलाधिकारी व पुलिस अधिछक के सद्प्रयाश से मामला हुवा शांत

बात है दुद्धी सोनभद्र की शुक्रवार को जन्मास्टमी का जुलूस नगर का भ्रमण करते हुवे रात करीब १० बजे जैसे ही मस्जिद के पास पहुंचा, सूत्रों की माने तो एक वर्ग द्वारा नारे बजी की जाने लगी जिसपर दूसरा पछ भी नारे बजी करने लगा दोनों वर्गों में धीरे धीरे झड़प बढ़ने लगी तो स्थानीय पुलिस मामले को शांत करना चाही लेकिन बात और बिगडती गयी , पुलिस ने हल्का बाल प्रयोग कर मामला शांत करना चाहा पर बात और बढ़ गयी और लोगो द्वारा बल प्रयोग के जवाब में पथराव बाजी सुरु हो गयी जिसमे दो सिपाहियो का सर फट गया कई लोग लाठी चार्ज से घायल हो गए, मौके की नजाकत देख पुलिस अधिछक डाक्टर प्रितिंदर सिंह ने रात में ही मौके पर पहोंच स्थिति को नियंत्रड में किया रात में पुलिस ने पूरे नगर में फ्लेग मार्च कर स्थिति को नियंत्रड में बनाये रखा , शनिवार की सुबह एक वर्ग द्वारा लाठी चार्ज के विरोध में बाजार को बंद किया गया और जन सैलाब पुरे नगर में भ्रमण करता हुआ कोतवाली गेट पर धरना दिया और प्रभारी निरिछक सुरेन्द्र त्रिपाठी को निलंबित करने की बात करने लगे जिस पर पुलिस अधिछक ने प्रभारी निरिछक सुरेन्द्र को हटाते हुवे कोतवाली का प्रभार शिशिर द्विवेदी को सौपा, जिलाधिकारी महोदय और पुलिस अधिछक ने दोनों गुटों की बैठक कर मामले को साम्प्रदाइक होने से बचाया .
शांति समिति की बैठक के बाद मस्जिद कमेटी ने सदर को बर्खास्त करते हुवे अबिदुल्ला को कार्यवाहक सदर नियुक्त किया, कमेटी ने मस्जिद से एनाउंस किया की मुस्लिम समुदाय इस अप्रिय घटना की निंदा करता है और लोगो से ये गुजारिस करता है की लोग आपस में भाई चारा बनाये रखे जिसका दुसरे पछ ने स्वागत किया और शांति बनाये रखने की अपील की.
नगर के बड़े बुजुर्गो की सूझ बुझ से यह घटना साम्प्रदाइक रूप नहीं ले पाई और नगर में एक बड़ी अप्रिय घटना होने से बच गई वही जिला प्रशासन ने यह स्वीकार किया की कही न कही से चूक हुई जिसकी वजह से यह अप्रिय घटना हुई .

Monday, February 22, 2010

नवजात की मौत से खुली मिशनरी हॉस्पिटल के रियायती चिकित्सा की पोल

नवजात की मौत से खुली मिशनरी हॉस्पिटल के रियायती चिकित्सा की पोल
सोनभद्र के राबर्ट्सगंज जैसे अति पिछड़े इलाके में स्थित जीवन ज्योति मशिही हॉस्पिटल की पोल उस समय खुली जब ३ दिन के नवजात शिशु की मौत डाक्टरों की लापरवाही और वहा मौजूद नर्शो के अनभिज्ञता के कारन हो गयी. गौरतलब है की यह हॉस्पिटल उन मिशनरी अस्पतालों की श्रेणी में आता है जो गरीबो को रिआयति चिकित्सा उपलब्ध कराने का दावा करती है, और गरीब मरीजो का शोसन कर अपना उल्लू सीधा करते हैं.
राबर्ट्सगंज निवाशी एक परिवार अपनी गर्भवती पत्नी का इलाज स्थानीय, जीवन ज्योति हॉस्पिटल में पिछले कई महीनो से करा रहा रहे थे , हर महीने इलाज के दौरान १५०० से २००० रुपये वसूलता था, इनके अनुसार डाक्टरों ने बताया उनकी पत्नी को जुड़वाँ बच्चे हैं जिसे उनके परिवार में काफी ख़ुशी का माहोल था, ध्यान रहे यह वही अस्पताल हैं जो प्रभु इशु की दुहाई का दावा करता है लेकिन शायद मॉलदार मरीजो को देखकर उनकी भी लार टपकने लगती है.
मिशन हॉस्पिटल का असली रूप उस समय सामने आया जब अकस्मात् एक रोबर्ट्सगंज निवासी परिवार की पत्नी की तबियत २९ जनुअरी २०१० को अचानक ख़राब हो गयी और हॉस्पिटल ले जाने पर फ़ौरन बड़ा ऑपरेशन करने की बात कही, जबकि डाक्टर ने डेलिवेरी की तारीख १६ फरवरी को दी थी .और उनसे काउंटर पर फ़ौरन ८००० रुपये जमा करने को कहा परिजनों ने काउंटर पर पुरे पैसे जमा कर दिए और फिर देर रात ऑपरेशन के दौरान महिला को जुड़वाँ लड़के पैदा हुवे. डाक्टरों द्वारा बताया गया की बच्चे थोडा कमजोर हैं पर घबराने की बात नहीं है अक्सर जुड़वाँ बच्चो के साथ ऐसा होता है और फिर माँ को उन्होंने वार्ड में सिफ्ट कर दिया और तब तक उनसे दवा इत्यादी के नाम पर १५,००० ऐठा जा चूका था . १ दिन बाद बच्चो को भी आइ सी यू से निकाल कर वार्ड में माँ के पास भेज दिया गया ,सब ठीक चल रहा था अचानक उनका छोटा बेटा २ जनुअरी को शुबह कुछ सुस्त था ९ बजे डॉक्टर ने चेक किया तो बताया की बच्चा ठीक है बच्चे कभी कभी चुप रहते है कोई बात नहीं है, बच्चे की तबियत बिगडती गयी और नर्स ने १२ बजे दोपहर में चेक किया और कहा बच्चा ठीक है फिर जब लेडी डॉक्टर ४ बजे शाम को चेकअप के दौरान आई तो कहा की आपके बच्चे की हालत काफी ख़राब है इसे फ़ौरन किसी बड़े अस्पताल में ले कर जाइये अब हम कुछ नहीं कर सकते और उसे वाराणसी के लीए रेफर कर दिया , इसे सुनकर महिला का परिवार काफी घबरा गया और अपने बच्चे को लेकर फ़ौरन वाराणसी लेकर भगा पर बच्चे ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया , वाराणसी सिंह रिसर्च सेंटर में पहुचने पर डॉक्टर ने बताया आपके बच्चे को पीलिया हो गया था और अगर आप १ घंटे पहले आये होते तो आपके बच्चे को बचाया जा सकता था. पुरे परिवार में गम का माहोल छा गया . दुसरे दिन जब महिला के परिवार वाले जब अपने दुसरे बच्चे के स्वास्थ की जानकारी लेने पहुंचे तो डॉक्टरो ने कहा की आपका दूसरा बच्चा काफी कमजोर था उस वजह से उसे बचाया नहीं जा सका पर आपका ये बच्चा ठीक है इसे कोई समस्या नहीं है .पर परिवार वालो को उनकी बात पे भरोसा न था और उन्होंने अपने बच्चे को किसी दुसरे अस्पताल में दिखाने की बात कही तो मिशन के डाक्टरों द्वारा कहा गया की नहीं उसे कही लेकर मत जाइये उसे कुछ नहीं हुआ है और हमने उसे आइ सी यू में एडमिट कर लिया है पर उन्होंने अपने बच्चे को जबरन वहा से निकाल कर राबर्ट्सगंज के निजी अस्पताल नेशनल बाल चिकित्सालय में चेकअप कराया तो रिपोर्ट में पता चला की बच्चे को १३.५ पीलिया हो चूका है अगर आप इसे थोड़ी देर और रखते तो इसका बचना भी मुस्किल था. अब इसे आप क्या कहेंगे की गलती किसकी है मिशन अस्पताल के डाक्टरों से परिवार के पूछने पर की आखिर इस बच्चे को पीलिया है और आपके यहाँ नोर्मल बताया जा रहा है ऐसा क्यूँ ? तो डाक्टर ने बताया की हमारे अस्पताल में चाइल्ड स्पेसलिस्ट न होने की वजह से कभी कभी दिक्ते आ जाती हैं जब हमसे केश हैंडल नहीं हो पाता तो हम मरीज को रेफ़र कर देते हैं .
अब आप ही सोचिये इस देश में अगर ऐसे अस्पताल की संख्या पर रोक नहीं लगायी गयी तो देश का भविष्य कैसा होगा जहा सरकार का कहना है की भारत बच्चो के मामले में शून्य मृत्यु दर है ऐसे में इन जैसे मिशनरी अस्पतालों की गड़ना करना कैसे भूल सकता है इसका कारन बस हम और आप है जो बस कुछ होने पर थोड़ी देर के लीए उतावले होते हैं और कुछ दिन बीतने पर सब भूल जाते हैं .हमे एक जूट होकर इनके खिलाफ आवाज उठानी होगी .
अश्विनी देव पाण्डेय
सोनभद्र ९७९५५१२६०७


Thanks And Regards Ashwini Dev Pandey+91-9795512607